top button

    Most popular tags
    vastu tips house direction business vastu main door vastu remedies kitchen flat office vastu shastra shop south west home wealth entrance main entrance house direction north facing prosperity

घर में main दरवाज़ा का direction क्या होना चाहिए?

0 votes
1,210 views

इसके बनाने में मुख्य किन चीज़ों का ध्यान रखना चाहिए?

 

posted Oct 21, 2016 by anonymous

Share this question
Facebook Share Button Twitter Share Button Google+ Share Button LinkedIn Share Button Multiple Social Share Button

3 Answers

0 votes

पूर्व (East) का दरवाज़ा शुभ होता हैं।

दक्षिण-दक्षिण-पूर्व (South-South-East) का दरवाज़ा घर की महिलाओं के लिए शुभ होता हैं।

दक्षिण (South) का दरवाज़ा ग्रहस्थ के लिए शुभ होता हैं।

पस्चिम (West) का दरवाज़ा भी ठीक हैं व क्षेमदायक हैं।

पस्चिम-उत्तर-पस्चिम (West-North-West) का दरवाज़ा भी शुभ हैं।

उत्तर (North) का दरवाज़ा प्रगतिकारक हैं।

उत्तर-उत्तर-पूर्व (North-North-East) का दरवाज़ा सौभाग्य प्रदायक हैं।

पूर्व-उत्तर-पूर्व (East-North-East) का दरवाज़ा संतान वृद्धि प्रदायक हैं और कीर्ति बढ़ाने वाला हैं।

answer Oct 22, 2016 by anonymous
0 votes

Answer : 

The direction of entrance in house/flat are given below;

Direction                                                              Effects ( parinam )

East to ENE                          ----                    It is a beneficial for Health Wealth and Successful in all ways.

North to NNW                        ----                    Increasing wealth and putrapotra religion increment.

West to WSW                        ----                   Development in every purpose and satisfaction in every ways.

South to SSE                         ----                  Beneficially in every ways it is one of the best for business man,                                                                      factory and office etc. 

Therefor the best direction of main door is East to East North East and North to North North West.

 

answer Dec 8, 2016 by Sri Bhimanand Mishra
0 votes
सूर्य East direction में उगता हुआ West में अस्त होता हैं, इसीलिए दिशा या ऑरीएंटेशन का स्थान महत्व का हैं। यदि हम मकान इस तरह से बनाएँ की जो प्राकर्तिक energy source को, मकान से अपने कल्याण के लिए इस्तेमाल कर सके। सूर्य की morning किरणों में विटामिन D का बहुत अच्छा source होता हैं, जिसका प्रभाव हमारे शरीर पर रक्त के माध्यम से, सीधा पड़ता हैं। इसी तरह afternoon के बाद सूर्य की किरणों का शरीर पर विपरीत प्रभाव पड़ता हैं।

इसीलिए मकान का निर्माण करते समय दिशा या orientation इस तरह से रखा जाना चाहिए की afternoon में सूर्य की किरणों का प्रभाव शरीर तथा मकान पर काम से काम पड़े।

South-West भाग के अनुपात में मकान निर्माण करते समय East व North के अनुपात की सतह को इसीलिए नीचा रखा जाता हैं, क्योंकि morning के समय सूर्य की किरणों में विटामिन D, F व विटामिन A रहते हैं। यदि East का area West के area से नीचा होगा, अधिक दरवाज़े, खिड़कियाँ आदि होने के कारण morning सूर्य की किरणों का लाभ पूरे मकान को मिलता रहेगा।

East ऐंव North area अधिक खुला होने से मकान में Air बिना रुकावट के प्रवेश करती रहें और मैग्नेटिक किरने, जो North से South दिशा में चलती हैं, उसमें कोई रुकावट नहीं हो और South-West भाग की छोटी खिड़कियों से Air निकलती रहें।
answer Dec 15, 2016 by anonymous
...