top button

    Most popular tags
    vastu tips house direction business vastu main door office shop flat kitchen wealth south west home entrance main entrance north facing plot prosperity bedroom north east

घर मे पूजन का कमरा किधर होना चाहिए?

+1 vote
1,908 views

पूजा करते समय किस दिशा में मुँह करके बैठना चाहिए? पूर्व या फिर उत्तर - पूर्व दिशा में?

 

posted Oct 13, 2016 by anonymous

Share this question
Facebook Share Button Twitter Share Button Google+ Share Button LinkedIn Share Button Multiple Social Share Button

3 Answers

+1 vote
 
Best answer

वास्तु के अनुसार यदि आप अपने घर में पूजा कर रहे हैं तो  पूर्व दिशा में मुँह करके पूजा करना ही श्रेष्ठ स्थिति है। इसमें भगवान की प्रतिमा (यदि हो तो) का मुँह और दृष्टि पश्चिम दिशा की ओर होती है। इस प्रकार की गई उपासना हमारे भीतर ज्ञान, क्षमता, सामर्थ्य और योग्यता प्रकट करती है, जिससे हम अपने लक्ष्य की तलाश करके उसे आसानी से हासिल कर लेते हैं। इसके अलावा उन्नति के लिए कुछ लोग उत्तर की तरफ  होकर भी उपासना का परामर्श देते हैं। 
 

लेकिन यदि आप किसी मंदिर में जाते है तो आप देखेंगे की भगवन को पश्चिम व दक्षिण में स्थान दिया जाता है क्यूंकि वास्तु में मंदिर को भगवन का घर मन गया है इसीलिए मालिक को दक्षिण में ही रखा जाता है जिस से मंदिर में पूजा करते हुए आपका मुख पश्चिम या दक्षिण की तरफ आ जाता है, अतः मंदिर में पूजा करने की यही उत्तम स्थिति होती है। 

answer Oct 14, 2016 by anonymous
+1 vote

पूजन का कमरा पूर्व या घर के उत्तर - पूर्व मे होना चाहिए।

जिधर सूर्य हो, हमारा मुँह पूजा करते समय उधर होना चाहिए। हम सूर्य नमस्कार करते समय भी सूर्य की तरफ़ मुँह करके रखते हैं, तो पूजा करते समय हमारा मुँह पूर्व या उत्तर - पूर्व मे होना चाहिए।

 

answer Oct 13, 2016 by anonymous
0 votes

वास्तु के अनुसार पूजा घर:

    1    पूजा घर बनाने के लिये, पूर्व, उत्तर और उत्तर पूर्व कि दिशा सबसे अच्छी होती है। अगर आपका घर बहुमजलिय (multi story) है तो अच्छा होगा कि आप अपना पूजा घर नीचे वाले फ्लोर पर ही बनवाएं।

    2    पूजा घर के सामने, साइड, ऊपर या नीचे टॉयलेट और किचन नहीं होना चाहिये। अगर घर में जगह कि कमी है और पूजा घर बेडरूम में है तो ध्यान रखें कि कभी भी आप अपना पैर मंदिर कि ओर कर के न सोएं।

    3    पूजा घर के लिए प्राय: हल्के पीले रंग को शुभ माना जाता है, अतः दीवारों पर हल्का पीला रंग किया जा सकता है।

    4    वास्तु के अनुसार तिकोने आकार का पूजा घर बहुत अच्छा माना जाता है। पूजा घर की छत भी तिकोनी होनी चाहिये जिससे पॉजिटिव एनर्जी बनी रहे।

    5    भगवान कि मूर्ती को रखते वक्त ध्यान रखें कि उन सब कि मूर्तियां एक-एक इंच कि दूरी पर रखी गई हो। मूर्तियों को एक दूसरे के सामने नहीं रखना चाहिये। मूर्तियों को पूर्व, पश्चिम और उत्तर पूर्व में रखें और उत्तर दिशा में न रखें।

    6    पूजा घर को सजाने के लिये तांबे के ही बर्तन का इस्तमाल करें। दीपक हमेशा भगवान की मूर्ती के सामने ही जलना चाहिये।

    7    अपने पूजा घर में भगवान कि मूर्ति के साथ पूर्वज सदस्यों कि तस्वीरें न रखें। वो आपके पूर्वज है पर भगवान नहीं।

    8    अपने पूजा घर को हमेशा साफ-सुथरा बनाए रखना चाहिये। साथ ही इसमें कभी सोना नहीं चाहिये और न ही कोई कबाड़ रखना चाहिये। 

answer Oct 14, 2016 by anonymous
...